February 9, 2007

ख्वाब !!

आधे अधुरे ख्वाब जो, पुरे ना हो सके,

इक बार फिर से नीन्द मे,वो ख्वाब बोने दो !!

No comments: